C Programming Language क्या है और आसानी से कैसे सीखें

C Programming क्या हैक्या आपको पता है C Programming Language क्या है (What is C Programming Language in Hindi). और Characteristics of C , History of C के बारे में आज हम हमारे पाठक को बताएँगे वो भी हिंदी में. इस Computer और Mobile के दौर में हर कोई Software से थोड़ा बहुत वाक़िफ़ है. वैसे तो एक Software Programming/coding से बनाया जाता है. एक program में Set of Code होते हैं जिनको Programming Language में लिखा जाता है.आज के समय में हर problem चाहे वो Social Life, Business, Education, Medical, Scientific Research और इससे संबंधित कुछ भी हो, इन सभी के लिए online Software हैं. आप भी हर दैनंदिन जीवन के काम को आसान करने के लिए Software और apps का इस्तेमाल करते है. software के Example- Chrome, MS-Office, VLC, MX-Player. Software और program कुछ और नहीं एक Problem का Solution है. एक ऐसा solution जहाँ आपको physical मेहनत करने की जरुरत नहीं पड़ती .इन Softwares को बनाने के लिए Programming Languages का उपयोग किया जाता है और उन्ही में से एक है C Programming Language (सी प्रोग्रामिंग भाषा) है. तो चलिए शुरु करते हैं.

C Programming Language क्या है ( What is C Programming Language in Hindi)

C एक Middle Level Programming Language है. यह एक Structure Oriented Programming Language है. वैसे तो ये Language, High Level Language जैसी Simple है और Low Level Language के Features को भी Support करती है. इसे Computer के Application Software और System Software बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. शुरुवात मे इस Language को Unix Operating System में Programming करने के लिए इस्तेमाल किया गया था.

bhai lang compiler

programming language क्या है और इसके प्रकारProtocol क्या है और इसके types ?

इसको Procedural Oriented Programming Language भी बोला जाता है. इससे Computer application software और Operating System software दोनों को विकसित कर सकते हो. इसलिए ये एक उत्क्रुस्त और कुशल Programming Language है. दोनों तरह के सॉफ्टवेयर बनाने की क़ाबिलियत रखने वाली, मतलब C को General Purpose Programming Language भी बोला जाता है.इसमें Program लिखना बड़ा ही आसान है. C को इस्तेमाल कर के Mathematical, Scientific, Business और System Software Develop कर सकते हो. C language की विशेषता(Features) के बारे में आगे इस लेख में बताया गया है जिसके बारे में समझना जरुरी है. अब थोड़ा C के इतिहास के बारे में जान लेते हैं Hindi में.

C का इतिहास (History Of C in Hindi)

पुराने समय मतलब 1970s में हर Language को कुछ Special Purpose के लिए विकसित किया जाता था. जैसे एक लैंग्वेज है FORTRAN जिसको Scientific और Mathematical application बनाने के लिए , इस तरह COBOL (Common Business Oriented Language) को Business में इस्तेमाल होने वाले Software को बनाने के लिए किया जाता था. लेकिन उस वक्त FORTRAN और COBOL से सारे Problems का Solution निकाल पाना मुश्किल था. यही वो समय था जब पहली बार C को बनाने के बारे में किसी ने सोचा, जिनका नाम है Dennis Ritche.

Dennis Ritche ने 1970s के समय में Bell’s Laboratory में इस language का Development शुरु किए. धीरे धीरे 1972 तक Bells Laboratory में इसको पूरी तरह से Develop कर दिया गया. Unix Operating System में Programming करने के लिए बनाया गया था. लेकिन बाद में c की मदद से पूरा UNIX Operating system को फिर से बनाया गया. आज के समय की बात करें तो UNIX पूरी तरह से C Language से ही बना है.C compiler भी c में लिखा गया है.

c Programming Language को B language से निकाली गई है. जिसको KEN Thompson ने बनाया था AT & T Laboratories में. B को Basic Combined Programming Language से Adopt किया गया है जिसको Invent करने वाले का नाम है, Martin Richard Cambridge University से. 1978 में Dannis Ritche और Brian Kernighan ने मिल के “The C Programming Language” को Publish किये थे.
1982 में C Language को मानवीकरण करने के लिए ANSI(American National Standard Institute) द्वारा एक Community बनाई गई थी. 1989 मे c को Standardize (मानवीकरण) किया गया जिसका नाम था “ANSI C”.

C Program का Structure

//Comments
Preprocessor Directives
Global Variable
Main() Functions
{
Local Variables
Statements
……………….
}
Func1()
{
Local Variables
Statements
…………………………
……………………….
}

Characteristics Of C Language In Hindi

Characteristics मतलब विशेषताए . वैसे ये language पुरानी होने के बावजुद भी बहुत सारे compiler इसी language से develop किये गए हैं. Operating system को programmed करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. तो चलिए इसके Characteristics के बारे में जानते हैं.

  • यह एक Middle Level Language है.
  • इसमें High और Low level Language के features हैं.
  • ये एक General Purpose Programming Language है.
  • इसमें 32 English Words हैं जिनको Keyword बोला जाता है (Keywords:if-else, For, Break).
  • Library Function की वजह से आप इससे बड़े बड़े program आसानी से develop कर सकते हो.
  • Programmer अपने हिसाब से भी Function बना सकता है.
  • c Program एक control Structure Follow करता है, इसी वजह से इसे Structure Programming Language बोला जाता है.
  • Program Structure जैसे Selection (if…else), Repetition (While, For, Do….while) और For Loop.
  • C में लिखे गए सारे प्रोग्राम Portable हैं.
  • ये एक System Independent Language है, मतलब जो Program C में लिखे गए हैं वो सारे Computers में Run कर सकते हैं.
  • ये language simple और easy है क्योंकि programmer को बड़ी आसानी से English में समझ आ जाता है.
  • C Program का Structure (Structure of C Program)
  • हर C program में बहुत सारे Functions होते हैं, हर एक Function में बहुत सारे Statements होते हैं. function कुछ specific task perform करता है. नीचे c program का General Structure दिया गया है.

मेरी अंतिम राय

इस लेख पेतो दोस्तों आज की जानकारी हर आम आदमी और Students के लिए काफी महत्वपूर्ण है . अगर आपको C++ या कोई भी दूसरे Programming Language को सीखना है तो आपको C से शुरुवात करना चाहिए. आजकल तो Programming हर Students के लिए जरुरी हो गया है. Computer Sc के field में करियर बनाने के लिए और concept समझने के लिए c से शुरुवात करना सही है. अब तो आप जान ही गए C Programming Language क्या है (What is C Programming Language in Hindi), इसकी विशेषताएं (Characteristics). और अंत में History Of C Language.उम्मीद है ये लेख पसंद आया होगा, कैसा लगा आप जरुर नीचे comment कर के बताइए. अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो नीचे Comment Box में जरुर लिखे. और कोई सुझाव देना चाहते हो तो जरुर दीजिये जिससे हम आपके लिए कुछ नया कर सके. हमारे Blog को अभी तक अगर आप Subscribe नहीं किये हैं तो जरुर Subscribe करें. जय हिंद, जय भारत, धन्यबाद.हमरा मकसद यही है आपकी अपनी मातृ भाषा में Computer Sc समझना और आपके लिए आसान बनाना

Leave a Comment