IP Address Full Form in Hindi | IP एड्रेस क्या होता है?

इंटरनेट, जिसे कभी-कभी नेटवर्क का नेटवर्क भी कहा जाता है, एक सरल सिद्धांत पर आधारित है: एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में इनफॉर्मेशन ट्रांसफर करना। IP Address Full Form प्रत्येक कंप्यूटर को एक पहचान की आवश्यकता होती है जिसे “इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस” या “आईपी एड्रेस” IP Address Full Form कहा जाता है। यह एक टेलीफोन नंबर या सड़क के एड्रेस के समान है।

आईपी ​​​​ एड्रेस व्यक्तिगत रूप से पहचान योग्य जानकारी है जो किसी अन्य कंप्यूटर द्वारा स्वचालित रूप से कब्जा कर लिया जाता है जब इंटरनेट पर कोई कम्युनिकेशन्स लिंक बनाया जाता है। इसमें वेब पेजों पर जाना, ई-मेल भेजना या प्राप्त करना, समाचार समूहों में जाना या चैट रूम का उपयोग करना शामिल है। अक्सर, एक यूजर का आईपी एड्रेस स्वचालित रूप से किसी थर्ड पार्टी को भेजा जाता है जब वह बैनर विज्ञापन नेटवर्क का उपयोग करके वेब साइट पर जाता है या कुछ परिस्थितियों में, एक ई-मेल मैसेज ओपन करता है।

What is IP Address in Hindi | आईपी एड्रेस क्या होता है? 

IP Address Full Form

IP Address in Hindi: Internet Protocol इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस (या IP एड्रेस) नेटवर्क पर विशेष डिवाइस के लिए डेटा भेजने के लिए नेटवर्क को कनेक्‍ट प्रत्येक डिवाइस (जैसे, कंप्यूटर, सर्वर, प्रिंटर, स्मार्टफ़ोन) का एक यूनिक एड्रेस होता है और कम्युनिकेशन के लिए वे इंटरनेट प्रोटोकॉल का उपयोग करते हैं।

Internet Protocol (IP) यह एक मेथड या प्रोटोकॉल है, जिसके द्वारा डाटा इंटरनेट पर एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस पर भेजा जाता है।

नेटवर्क से जुड़े हर डिवाइस को एक यूनिक आईपी एड्रेस होना चाहिए। आपके डिवाइस के यूनिक एड्रेस के बिना, आप नेटवर्क या इंटरनेट पर अन्‍य डिवाइसेस, युजर और कंप्‍यूटर के साथ कम्युनिकेशन नहीं कर सकते| आईपी एड्रसेस बाइनरी वैल्यू का बना हुआ होता है और नेटवर्क या इंटरनेट पर सभी डेटा को रूटिंग करता हैं|

IP Address Full Form

Full Form of IP Address is – Internet Protocol

IP Address Full Form in Hindi

IP Address Ka Full Form हैं – Internet Protocol / इंटरनेट प्रोटोकॉल hota hai

आईपी एड्रेस का फॉर्मेट कैसा हैं?

Format of an IP Address in Hindi:

आईपी एड्रेस मे हमेशा नंबर के 4 ब्‍लॉक होते हैं, जो पीरियड के द्वारा अलग अलग होते हें| प्रत्येक ब्लॉक में 0 से 255 कि संभावित रेंज होती हैं, जिसका मतलब है कि प्रत्येक ब्लॉक मे 256 संभावित वैल्यू होती हैं| उदाहरण के लिए, आईपी एड्रेस 192.168.1.10 ऐसे दिखता हैं|

इन एड्रेस मे से 3 रेंज को विषेश उद्देश्य के लिए आरक्षित किया गया हैं| पहला एड्रेस 0.0.0.0 डिफ़ॉल्ट नेटवर्क से संबंधित होता हैं और 255.255.255.255 को ब्रॉडकास्ट एड्रेस कहा जाता हैं| तीसरा एड्रेस 127.0.0.1 लूपबैक एड्रेस है, और यह आपके ही मशीन या कंप्‍यूटर को दर्शाता हैं|

आईपी एड्रेस का स्‍टैंडर्ड क्या हैं?

IP Address Standards In Hindi:

किसी भी नेटवर्क पर इस्तेमाल किए जाने वाले आईपी एड्रेस के 2 स्टैण्डर्ड हैं:

i) IP version 4 (IPv4):

Internet Protocol version 4 (IPv4) यह इंटरनेट प्रोटोकॉल(IP) का चौथा वर्जन हैं, जिसे नेटवर्क के डिवाइस की पहचान करने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता हैं| IPv4 एड्रेस 32 बीट लंबा होता हैं और यह 4,294,967,296 एड्रेसेस को सपोर्ट करता हैं (हालांकि इनमे से कई विशेष उद्देश्यों के लिए आरक्षित हैं, जैसे 10.0.0.0 और 127.0.0.0)

192.168.0.1 यह एक IPv4 एड्रेस का एक सामान्य उदाहरण है। सबसे आसानी से पहचाने जाने वाली आईपी रेंज 192.168.0.1 – 192.168.0.255 हैं, क्योंकि इन एड्रेस को हम घर या ऑफिस पर उपयोग करते हैं|

ii) IP version 6 (IPv6):

इंटरनेट के लोकप्रिय विकास के कारण IPv4 के संभावीत एड्रेस भविष्‍य में समाप्‍त होने कि चिंता से Internet Protocol version 6 (IPv6) का नया वर्जन विकसीत किया गया| यह IPv4 का नया और उन्‍न्‍त वर्जन हैं| इसे IPng (IP new generation) के रूप में भी जाना जाता है।

Internet Protocol version 6 (IPv6) 128 बिट्स लंबा होता हैं। इसलिए, यह 2 ^ 128 इंटरनेट एड्रेस को सपोर्ट करता हें, जो 340.282.366.920.938.000.000.000.000.000.000.000.000 एड्रेस के बराबर हैं| यह बहुत सारे एड्रेस हैं और वे बहुत लंबे समय तक इंटरनेट ऑपरेशनल जारी रखने के लिए पर्याप्त से अधिक हैं।

आईपी एड्रेस के क्‍लासेस क्या हैं?

IP Address Classes in Hindi:

IPv4 एड्रेस मे आईपी रेंज के लिए पाच क्‍लासेस हैं: Class A, Class B, Class C, Class D और Class E| जबकि केवल A, B, और C को ही आमतौर पर इस्तेमाल करते हैं| हरएक क्‍लास आईपी एड्रेस कि वैध रेंज के लिए अनुमति देता हैं, जिसे निम्‍न टेबल में दिखाया गया हैं –

पब्लिक और प्राइवेट आईपी एड्रेस क्या हैं?

What is Public and Private IP Addresses:

i) Private IP Addresses in Hindi:

जब कई कंप्यूटर या डिवाइस या तो केबल के साथ या वायरलेस, एक दूसरे से कनेक्‍ट होते हैं, तब वे एक प्राइवेट नेटवर्क बनाते हैं। इस नेटवर्क के भीतर प्रत्येक डिवाइस को फ़ाइलों और रिर्सोसेस को शेयर करने के लिए एक यूनिक आईपी एड्रेस असाइन किया जाता हैं| इस नेटवर्क के सभी डिवासेस के आईपी एड्रेस को प्राइवेट एड्रेस कहा जाता हैं|

ii) Public IP addresses in Hindi:

पब्लिक आईपी एड्रेस वह होता हैं, जिसे ISP (Internet Service Provider) देता हैं| इससे आपके होम नेटवर्क को बाहर की दुनिया मे पहचान मिलती हैं| यह आईपी एड्रेस पूरे इंटरनेट में यूनिक होता हैं।

पब्लिक आईपी एड्रेस स्टैटिक या डायनामिक हो सकता है। स्टैटिक पब्लिक आईपी एड्रेस बदलता नही है और इसे मुख्य रूप से इंटरनेट पर किसी सर्विस (जैसे आईपी कैमेरा, एफटीपी सर्वर, इमेल सर्वर को एक्‍सेस करने के लिए या कंप्‍यूटर का रिमोट एक्‍सेस लेने के लिए) या वेब होस्टिंग के लिए इस्‍तेमाल किया जाता हैं| इसे ISP से खरीदना पड़ना हैं|

दूसरी ओर, डायनामिक आईपी एड्रेस उपलब्ध आईपी एड्रेस को लेता हैं और हर बार इंटरनेट से कनेक्‍ट होने पर बदल जाता है। अधिकतम इंटरनेट यूजर के पास उनके कंप्‍यूटर के लिए डायनामिक आईपी एड्रेस होता हैं, जिसे इंटरनेट डिसकनेक्‍ट करने पर काट दिया जाता हैं और रिकनेक्‍ट होने पर नया आईपी एड्रेस मिलता हैं|

What is My IP Address?

आपके कंप्यूटर का प्राइवेट आईपी एड्रेस खोजने के लिए –

सबसे पहले, Start मेनू को क्लिक करें, और Run को सिलेक्‍ट करें।

आगे Run बॉक्स में ‘cmd’ टाइप करें और ””OK” बटन पर क्लिक करें।

अंत में, प्रॉम्प्ट पर ” ipconfig ” टाइप करें और आपके आईपी एड्रेस के बारे में जानकारी यहाँ प्रदर्शित कि जाएगी।

पब्लिक आईपी एड्रेस ढूंढने के लिए

अगर आपका कंप्‍यूटर बिना किसी रूटर सेटींग के, सीधे इंटरनेट से कनेक्‍ट हैं तो आपका आईपी एड्रेस एक पब्लिक आईपी एड्रेस हैं| अपने पब्लिक आईपी एड्रेस का पता लगाना का सबसे आसान तरीका है वेबसाइट से पूछे।

इसके लिए आपको सिर्फ गूगल पर what is my ip या what is my ip address सर्च करना हैं, और गूगल आपका पब्लिक आईपी एड्रेस बतादेगा|

इसके साथ ही इंटरनेट पर कई वेबसाइट हैं जो आपका पब्लिक आईपी एड्रेस दिखाती हैं|

स्टेटिक बनाम डायनामिक आईपी एड्रेस और DHCP

एक स्थिर आईपी एड्रेस वह होता है जिसे एक ISP द्वारा एक डिवाइस को सौंपा गया है और स्थिर रहने की गारंटी है। यदि आपके कंप्यूटर का एड्रेस 46.49.242.128 है,

तो यह तब तक रहेगा जब तक आप इसे चाहते हैं। स्टेटिक आईपी एड्रेस उन डिवाइसेस के लिए महत्वपूर्ण हैं जिन्हें इंटरनेट पर आसानी से खोजने की आवश्यकता होती है, जैसे वेब सर्वर या गेमिंग सर्वर। सामान्यतया, एक ISP एक निर्दिष्ट स्थिर आईपी एड्रेस के लिए ग्राहक से अतिरिक्त शुल्क लेगा।

ISP के दृष्टिकोण से, जिसके पास सीमित संख्या में IPv4 एड्रेस को सौंपने के लिए है, एक स्टेटिक एड्रेस को पट्टे पर देने का एक पहलू यह है कि एड्रेस किसी और के लिए अनुपलब्ध है। लेकिन एंड यूजर्स के विशाल बहुमत को केवल एक एड्रेस की आवश्यकता होती है.

जब वे वास्तव में इंटरनेट का उपयोग कर रहे होते हैं। उन यूजर्स के लिए, ISP डायनामिक आईपी एड्रेस प्रदान करते हैं, मूल रूप से हर बार नेटवर्क से कनेक्ट होने पर डिवाइस को एक नया एड्रेस सौंपते हैं, और डिवाइस के डिस्कनेक्ट होने पर उस एड्रेस को वापस उपलब्ध एड्रेस के पूल में डाल देते हैं। यह तकनीक आईपी एड्रेस को संरक्षित करने में मदद करती है। यदि किसी ISP के पास एक मिलियन ग्राहक हैं, लेकिन दिए गए समय में केवल आधे ऑनलाइन हैं, तो ISP को अपने पूल में एक मिलियन एड्रेस की आवश्यकता नहीं है।

IPv4 नेटवर्क के लिए, IP एड्रेस को डायनामिक रूप से असाइन करने की प्रक्रिया डायनेमिक होस्ट कॉन्फ़िगरेशन प्रोटोकॉल, (DHCP) द्वारा नियंत्रित होती है, जो अन्य बातों के अलावा, अधिकांश प्रक्रिया को स्वचालित करता है और यह सुनिश्चित करता है कि कोई भी दो डिवाइस एक ही समय में एक ही एड्रेस असाइन न करें।

IPv6 को स्टेटलेस IP एड्रेस ऑटोकॉन्फिगरेशन (SLAAC) का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया था, जिसमें एक डिवाइस अनिवार्य रूप से नेटवर्क से कनेक्ट होने पर उपलब्ध पूल से एक एड्रेस को पकड़ लेता है। हालाँकि, DHCPv6, DHCP प्रोटोकॉल का एक अद्यतन संस्करण भी है जो नेटवर्क प्रदाताओं के हाथों में अधिक नियंत्रण रखता है।

IP एड्रेस का उपयोग क्या है?

एक आईपी एड्रेस का उद्देश्य उन डिवाइसेस के बीच कनेक्शन को संभालना है जो एक नेटवर्क पर इनफॉर्मेशन भेजते और प्राप्त करते हैं। IP एड्रेस विशिष्ट रूप से इंटरनेट पर प्रत्येक डिवाइस की पहचान करता है; इसके बिना, उनसे संपर्क करने का कोई तरीका नहीं है।

Conclusion

हाँ तो दोस्तों आपको हमारी आज की पोस्ट कैसी लगी जिसमें हमने What Is Internet Protocol In Hindi व IP Address Kaise Pata Kare IP Address Full Form के बारे में जाना। हम आशा करते है आपके कई सवालों के जवाब आज आपको यहाँ मिले होंगे। ऊपर जो Steps हमने आपको बताई है उसे Follow करके आप किसी भी Computer या Laptop डिवाइस का IP Address पता कर सकते है। अगर आपके मन में अब भी कुछ सवाल है तो वो भी आप Comment Box में Comment करके हमसे पूछ सकते है, हमारी टीम आपकी सहायता जरूर करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *