ITI Full Form in hindi – आईटीआई का क्या फुल फॉर्म होता है?

ITI Full Form in hindi – आईटीआई का क्या फुल फॉर्म होता है? 

आयटीआय का फुल फॉर्म औद्योगिक संस्थान(Industrial Training Institute) संस्थान यह है.यह  एक हमारे भारत सरकार के द्वारा TRAINING के उद्दिष्टे से बनाया हुआ एक संघटने जिस मे जो कॉलेज या हायस्कूल के स्टूडेंट होते है.

 

ITI INFORMATION


ऊन स्टुडन्ट को जो औद्योगिक कामे इत्यादी और उद्योग से संबंधित आवश्यक शिक्षा देणे का यह संघटन काम करते है जिसे जो भी बडी बडी कंपनी मे काम होता है वही सारा काम कैसे कर सकते है उसके सारे छोटे बडे काम आयटीआय आणि औद्योगिक TRAINING संस्थान मे सिखाये जाते है.

यह औद्योगिक TRAINING संस्था में जब विद्यार्थी आठवीं कक्षा पास करता है तब विद्यार्थी इस संघटना में जुड़ सकता है यह सबसे कम शिक्षण की पात्रता है.

और इस ITI की स्थापना करने का मुख्य उद्देश्य यह था कि जो छात्र है उन छात्रों को टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी और छात्रों को टेक्निकल काम जो बड़े-बड़े फैक्ट्री में होते हैं वह सिखाए जाते हैं.

जिन छात्रों की अभी-अभी दसवीं कक्षा पास हुए हैं वह ज्यादातर छात्र हो आजकल ITI के लिए उत्सुक रहते हैं क्योंकि ITI में छात्र के पसंद का क्षेत्र चुन के छात्र अपना काम बहुत बढ़िया तरीके से और मन लगाकर कर सकता है.

और इसी बहाने उसकी उच्च शिक्षण के बजाय तकनीकी ज्ञान प्राप्त होता है और यह तकनीकी ज्ञान उसकी नौकरी लगने के लिए बहुत काम आता है और नौकरी के बाद भी यह तकनीकी ध्यान उस छात्र को काम आता है.

ITI एक मकसद यह भी था कि जो भारत में बढ़ती बेरोजगारी की समस्या है वह समस्या को मिटाने के लिए भी ITI का निर्माण किया गया था क्योंकि ITI के अंदर जो छात्र काम करते हैं उन छात्रों को कुछ रकम भी दी जाती है मतलब जैसे जैसे छात्र अच्छा काम करता है.

 उस हिसाब से उसको सैलरी भी दी जाती है और TRAINING महानिदेशालय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के भारत सरकार के द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में TRAINING प्रदान करने वाली यह एकमात्र संघटना है. 

ITI के संस्था पूरे भारत भर में हर एक राज्य में हर एक जिले में आपको ITI का एक फैक्ट्री जरूर मिलेगा जो उस जिले के सभी छात्रों को शिक्षा प्राप्त करने की एक संधि देता है इन ITI संस्थान के जरिए जो बच्चे को रुचि होती है.

किसी क्षेत्र में अपना करियर करना वह छात्र इस ITI के जरिए वह अपना मनपसंद क्षेत्र चुन के उस क्षेत्र में ITI के पूरे कोर्स करने के बाद योग्य आवेदकों को राष्ट्रीय व्यापार प्रमाण पत्र एनटीपी जारी किए जाने के बाद उम्मीदवार अखिल भारतीय व्यापार परीक्षा एआईटीडी के लिए उपस्थित होते हैं.

ITI का कोर्स कितने दिन का होता है? 

ITI का कोर्स आमतौर पर दो भागों में विभाजित किया गया है.

  • इंजीनियरिंग व्यापार

  • नॉन इंजीनियरिंग व्यापार

यह दो हिस्सों में ITI का पाठ्यक्रम को बांटा गया है इंजीनियर का कोर्स तकलीफ पर केंद्रित कुछ होता है क्यों इंजीनियरिंग का कोर्स में विज्ञान गणित और प्रौद्योगिकी हुआ धरण पर सबसे मुख्य ध्यान होता है.

 जो गैर  इंजीनियरिंग मतलब नॉन व्यापारी इंजीनियर का अभ्यासक्रम होता है उसमें पाठ्यक्रम की तकनीकी डिग्री नहीं होती वह भाषाओं सॉफ्ट स्किल और छोटे-छोटे क्षेत्र जिसमें बहुत ज्यादा काम करने के मौका है उन छोटे-छोटे क्षेत्र पर विशेष ध्यान दिया जाता है.

ITI के लिए क्या शिक्षण लगता है? 

ITI के कोर्स में आपको दिन में प्रकार के क्षेत्रों में शिक्षा लेने का मौका मिलता है और इन क्षेत्रों के जरिए आप अपना मनपसंद ब्लॉक कर सकते हैं.

और इस ITI के लिए आपको कम से कम किसी एक बोर्ड से जिस बोर्ड को मान्यता प्राप्त हो उस बोर्ड से आपको दसवीं की कक्षा उत्तीर्ण में होनी चाहिए या कोई और भी परीक्षा जिसका महत्व 10 वीं कक्षा के बराबर हो और इसके साथ-साथ आपको कम से कम 25% सब मिलाकर मार्क प्राप्त होनी चाहिए.

जब आप ITI के लिए अप्लाई करते हैं तब आपकी उम्र कम से कम 14 साल और ज्यादा से ज्यादा 40 साल होनी चाहिए यह आपकी आयु की आवश्यकता है ITI में शिक्षा लेने के लिए.

ITI में कौन कौन से कोर्स होते हैं? 

ITI एक बहुत बड़ी संघटना है जिसमें बहुत प्रकार के कोर्स आपको देखने के लिए आपको जिस कोर्स में रुचि है उसको उसका आप शिक्षण लेकर उसी कोर्स में अपनी मनपसंद काम की संधि प्राप्त कर सकते हैं ITI के कोर्स नीचे दिए गए हैं.

  • इलेक्ट्रीशियन

  • वायरमैन

  • एडवांस वेल्डिंग

  • प्लंबर

  • फिटर

  • फाऊंडरीमैन

  • बुक बेंडर

  • पेटर्न मेकर

  • मशीन बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन

यह मुख्य कोर्स ITI में उपलब्ध है इन में से कौन सा भी कोर्स आप करके ITI पूरा कर सकते हैं.

भारत में ITI की कितने सेंटर है? 

भारत में ITI के बहुत सारे सेंटर है मतलब हर एक जिले में आपको ITI का एक सेंटर मिलेगा यदि आपका जिला विकसित है.

तो और इन ITI के भी कुछ प्रकार होते हैं उनमें से पहला प्रकार है सीटीएस ट्रेनिंग यह सिटीज ट्रेनिंग की ITI 152042 इतने सेंटर है और यह सारे सेंटर पर इन सिटी एस की ट्रेनिंग होती है.

और प्रदेश में गवर्नमेंट ITI की संख्या 2738 कितनी है और आपको गवर्नमेंट ITI में एडमिशन लेना है तो आपको गवर्नमेंट ITI जिस शहर में है.

उस शहर में जाकर TRAINING करना पड़ेगा और गवर्नमेंट ITI की संख्या कम होने के कारण यह आए ITI की संख्या बहुत कम जिलों में है और इन ITI किया खास बात यह है कि इसमें आपको पूरा कोर्स करने के लिए फीस ना के बराबर लगती है.

इसके साथ-साथ भारत के अंदर प्राइवेट ITI की भी संख्या बहुत ज्यादा है क्योंकि प्राइवेट ITI में TRAINING बहुत अच्छी तरीके से दिया जाता है और प्राइवेट ITI की हर एक जिले में केंद्र होती है इसलिए प्राइवेट ITI की संख्या 12304 है.

और ITI की तरफ से जो कोर्स छात्रों को दिए जाते हैं उनकी संख्या 126 है नल कोर्स करके आप ITI कर सकते हैं जो आपने ऊपर कोर्स देखे वह सबसे प्रसिद्ध टॉप 10 कोर से और बाकी के 100 से भी ज्यादा ITI के अंदर कोर्स उपलब्ध है इसीलिए ITI के अंदर बहुत ज्यादा मात्रा में स्कोप है इसमें आप जाकर अपनी मनपसंद काम कर सकते हैं.

आशा करता हूं कि आपको ITI के बारे में संपूर्ण जानकारी मिली होगी अगर आपको ITI के बारे में और और भी अन्य कई संस्थाओं के बारे में जानना है तो मैंने आपको इस वेबसाइट पर सभी तरह के लेख लिखे आईफोन लेखक को भी आप जरूर पढ़े उनमें भी मैंने ऐसे ही भर पूरी जानकारी आपको दिए हैं.

Leave a Comment