NGO Full Form – NGO क्या होता है?

NGO Full Form क्या होता है NGO कैसे काम करता है NGO को आप कैसे जॉईन कर सकते है और एन जी ओ का फुल फॉर्म क्या है सब प्रश्न के उत्तर मैने आपको विस्तार स्वरूप मे मैने आपको इस पोस्ट मे बहुत अच्छी तरीके से बताया है तो आपको अगर एन जी ओ का फुल फॉर्म जाना चाहते हो NGO के बारे मे जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप  इस पोस्ट को पुरा पढ़ सकते हैं

NGO full form

NGO का फुल फॉर्म Non Governmental Organization यह NGO की फुल फॉर्म का मतलब होता है. यह एक गैर सरकारी संगठन होता है जिसका संबंध गवर्नमेंट नहीं होता है यानी इसमें गवर्नमेंट का कोई संचालन नहीं होता और इसमें जो भी पैसे लगते हैं वह गवर्नमेंट नहीं देती.

यह सारी NGO अपने फायदे के लिए काम नहीं करती है यह NGO का काम सिर्फ समाज में सेवा करना यह होता है यह ना किसी कंपनी या कोई ब्रांड का प्रमोशन करती है यह सिर्फ समाज की सेवा करती है. इन सभी NGO का एक ही मकसद होता है बिना किसी बदले या प्रॉफिट के अलावा सिर्फ समाज में जो आवश्यक सेवा है सेवा को अंजाम में लाना.

NGOस का आमतौर पर यह काम होता है कि जो गरीब बच्चे या हसाय लोगों की मदद करना जेष्ठ नागरिक और पर्यावरण की हो रही हानि इस पर NGO लगातार काम करता है अगर कहीं पर गवर्नमेंट का कोई प्रोजेक्ट है.

NGO Full Form in hindi

और कुछ प्रोजेक्ट से अगर पर्यावरण को बहुत मात्रा में हानि हो रही है तो इन NGO के द्वारा उस प्रोजेक्ट को रोकने की मांग की जाती है या किसी इंसान पर समाज में अन्याय हो रहा है या किसी जाति पर अन्याय हो रहा है तो इनकी मदद करना इन NGO का काम होता है.

 यह NGO एक रजिस्ट्रेशन प्रोसेस करने के बाद अपनी मान्यता प्राप्त करने के बाद यह अलग-अलग नियम लगा सकते हैं इनकी अपने राज्य के अनुसार अलग-अलग रोल होते हैं और इन रूल्स को रखने के लिए एक बैठक करनी पड़ती है.

NGO के क्या कार्य होते? 

NGO के सारे कार्य समाज के सेवक के लिए होते हैं उनमें से मैं आपको बताने वाला हूं कि सबसे मुख्य कौन से कार्य होते हैं जो एक NGO करती है.

NGO का सबसे पहला कार्य है यह है कि जो समाज में लोग समस्या में हैं जिनके घर पर खाने के लिए कुछ नहीं है या उनके घर में कुछ समस्या है तो उन असहाय लोगों की मदद करना यह एक NGO का कार्य है.

समाज में जो गरीब बच्चे हे या जिन बच्चों के माता-पिता नहीं है अनाथ बच्चे नहीं फूल सभी बच्चों का खेल रखना और उनको खाने पीने की सुविधा उपलब्ध करना और इसी के साथ स्कूल की शिक्षा का सारा खर्च करना यह काम एक ngo का होता है.

जो लोग बूढ़े हो चुके हैं और उनकी बचे उनको संभालने के लिए तैयार नहीं तो उन बूढ़े लोगों को एक अनाथालय में संभाला जाता है या उनकी देखभाल NGO के द्वारा होती हैं.

अगर किसी शहर पर कोई आपत्ति आती हे जेसे कि अगर किस शहर में भूकंप आ जाता है और उस भूकंप की कारण उठ शहर के बहुत ज्यादा मात्रा में हानि होती है.

लोग बेघर होकर हो जाती हे तब लोगों की मदद करना जैसे कि उनको रहने के लिए किसी सुरक्षित जगह का व्यवस्था करना उनकी खानी पीने की व्यवस्था करना और उनका जितना नुकसान हुआ है उस नुकसान का अंदाजा लेकर उसे सरकार तक पहुंचाना कोई सारी कामों में यह ngo सरकार की मदद नहीं लेती ही यह सारी ngo अपने बिना फायदे की धोरण अनुसार चलती है.

 

NGO FULL FORM

 

Ngo को कैसे ज्वाइन कर सकते हैं?

अगर आपको NGO को ज्वाइन करना है तो किस के दो प्रकार होते हैं एक तो आप अपना NGO संस्था खोल सकते हैं या आप किसी NGO के मेंबर बन सकते हैं इनमें से दो ऑप्शन में से कौन सा भी एक ऑप्शन सिलेक्ट करके आप NGO एकदम आसानी से ज्वाइन कर सकते हैं.

 NGO को जॉइन आप कभी कीजिए जब आपकी आर्थिक परिस्थिति बहुत अच्छी है क्योंकि अगर आप NGO ज्वाइन करते हैं तो आपका बहुत अंशु वक्त NGO के कार्य में चला जाता है इससे आप जो काम कर रहे होते हैं उसको आपको बहुत कम मात्रा में पैसे मिलते हैं.

और यह काम आप समाज सेवा के लिए करते हैं इसलिए आपको ज्यादा पैसे मिलने की भी संभावना है पर अगर आप आर्थिक दृष्टि से अच्छे हैं तो आपको एन जी ओ ज्वाइन करने में कोई भी तकलीफ नहीं है बल्कि आप अपना जो फंड है वह अपनी खुद की NGO में बनाने लगा सकते हैं अगर आपको अपनी खुद की NGO बनानी है तो आप नीचे पड़ सकते हैं.

NGO ज्वाइन करने के क्या फायदे हैं? 

 

अगर आप एक एनजीओ को ज्वाइन करना चाहते हैं तो उसके क्या फायदे होंगे एनजीओ ज्वाइन करने के फायदे बहुत ज्यादा नहीं है पर अगर आप एंजॉय ज्वाइन करते तो इसका आपको सबसे पहले फायदा यह मिलेगा कि आपको समाज के अंदर बहुत सारी इज्जत मिलेगी.

इससे अगर आप बच्चों को पढ़ाते हैं आप कोई टीचर या कुछ है तो आप इन एनजीओ के संस्था में मुफ्त में बच्चों को सिखा सकते हैं और इसके साथ-साथ अंजू में आपको मंथली सैलरी भी दी जाती है अगर आपकी एनजीओ को फंड अच्छा मिलने लगा तो आपको किसी और जॉब की जरूरत नहीं होगी आप एनजीओ की जॉब करके ही बहुत अच्छे पैसे कमा सकते हो

NGO का मेंबर कैसे बन सकते हैं? 

NGO का मेंबर बनने के लिए आपके अंदर समाज सेवा की भावना होना चाहिए और इसी उद्देश्य से आपको NGO को ज्वाइन करना होगा बीएसडब्ल्यू एमएसडब्ल्यू यह कोर्स अगर आपने किया है तो आप हिंदुओं को ज्वाइन कर सकते हैं.

अगर आप और ज्वाइन करना चाहते हैं तो आप सर्च कर सकते हैं किसी भी NGO को जिस जो भी आपके एरिया में है वहां पर आप सर्च कर सकते हैं और वहां पर जा कर के अगर आप उसकी वेबसाइट पर ऑनलाइन अगर आप करते हैं.

वैसे आप पर्सनली ऑफिस में जाकर की भी कर सकते हैं लेकिन अगर आप ऑनलाइन करते हैं तो वहां पर जो NGOस की वेबसाइट होती हैं वेबसाइट पर आप जाएंगे तो वहां पर आपको दिखाई देंगे

  • BECOME MEMBER

  • GET INVOLVED

  • INTERNSHIP

इनमें से कोई भी ऑप्शन पर आपको सिलेक्ट करके आपको या पर अपनी डिटेल्स फील करनी है जो भी होती है उसके बाद आपका जो भी है उसको चेक करने के बाद में आपको NGO मेंबर बनाती है. या फिर आप इसके internship के लिए उसको ज्वाइन कर सकते हैं.

लेकिन पहले अपना जो डिटेल है वह देने के पहले आप एक बार कंफर्म कर लीजिएगा जो वेबसाइट है रियल वे वेबसाइट है तभी आप अपना डिटेल अपना सारा डिटेल्स दीजिएगा क्योंकि अगर आपने किसी एक FAKE वेबसाइट को अपनी सारी डाक्यूमेंट्स दी तो आप बहुत बड़ी मुसीबत में आ सकते.

अपनी खुद की NGO कैसे स्टार्ट कर सकते हैं? 

अगर आप अपना खुद का NGO खोलना चाहते हैं तो इसके लिए आप को मिनिमम 7 मेंबर्स की आवश्यकता है आपके पास मेंबर से होना चाहिए जो इस ग्रुप में किसी उद्देश्य को लेकर के पहले आप अपना उद्देश्य जरूर सिलेक्ट करें कि आपको किस तरह से किस फील्ड में आपको अपनी सेवा देनी है.

अगर आपको किसी एक पर्टिकुलर फील्ड में सेवा देनी है जैसे कि अगर आपको किसी अनाथ बच्चों की सेवा करनी है तो आप उस हिसाब से अपनी NGO का भी रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं और अगर आप ऐसे रजिस्टर करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा फायदा होता है क्योंकि आपको भी फंड उसी काम का मिलता है.

आप बच्चों से रिलेटेड करना चाहते हैं महिलाओं से रिलेटेड करना चाहते हैं अलग-अलग उद्देश रहते हैं उसको आपको सिलेक्ट करना है और उस उद्देश्य की NGO को ओपन करना हाय अब जब आप अपना खुद का है जो बोलते हैं.

तो कुछ डाक्यूमेंट्स आपको रिक्वायर्ड रहते हैं जैसे कि Trust एंड मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन रूल्स एंड रेगुलेशंस मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन रेगुलेशंस एंड आईडी प्रूफ रेजिडेंस प्रूफ कुछ डाक्यूमेंट्स है जो आपको रिक्वायर्ड रहते हैं जब आप अपना खुद का NGO खोल दो अलग-अलग टाइप्स के होते हैं. 

Ngo को रजिस्टर कैसे करें?

अगर आपको अपनी NGO को रजिस्टर करना है तो आपको सबसे पहले अपनी NGO आपको अगर अपने आर्थिक बल पर खोलना चाहते तो आप खोल सकते हैं.

 

 अगर आप समाज सेवा करना चाहते हैं सरकार से किसी भी तरह की कोई आर्थिक सहायता नहीं लेना चाहते हैं तो आपको रजिस्टर्ड कराने की जरूरत नहीं है लेकिन अगर आप कहां पर हैं तो आपको थोड़ा सा गवर्नमेंट से भी आर्थिक सहायता आपको मिलती है. NGO रजिस्टर करने के लिए आपको 3 कानून की की जरूरत पड़ती है वह नीचे दिए गए हैं. 

TRUST ACT 

अलग-अलग स्टेट में अलग-अलग Trust एक्ट अधिनियम है और अगर किसी स्टेट में कोई अधिनियम अधिनियमित नहीं है तो उस स्टेट में Trust अधिनियम अट्ठारह सौ बयासी लागू होता है.

 अगर आप Trust एक्ट के अंतर्गत रजिस्टर्ड कराना चाहते हैं अपने NGO को तो कम से कम 2 Trust की आवश्यकता होती है और रजिस्टर कराने के लिए आपको जिसमें लेटेस्ट डेट के जो चैरिटी कमिश्नर स्टार होते हैं.

उस ऑफिस में ऑफिस में आपको आवेदन पत्र देना होता है Trust एक्ट के अंतर्गत रजिस्टर्ड कराने के लिए Trust भी डॉक्यूमेंट है जो आपको रिक्वायर्ड रहता है डॉक्यूमेंट की आवश्यकता पड़ती है.

SOCIETY ACT 

सोसाइटी ACT अंतर्गत NGO को स्टार्ट कर आते हैं तो इसको सोसायटी एक्ट के रूप में रजिस्टर किया जाता है किसी किसी राज्य में जैसे महाराष्ट्र है इसमें इसी एक्ट के तहत NGOस को Trustी के तौर पर भी पंजीकृत किया जाता है.

सोसाइटी एक्ट के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन के लिए मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन रूल्स एंड रेगुलेशन डॉक्यूमेंट की आवश्यकता रहती है रहती है और इसके लिए आपके पास मिनिमम और 7 मेंबर आपके साथ आपके पास होना चाहिए तब सोसाइटी एक्ट के अंतर्गत आप इसको रजिस्टर्ड करा सकते हैं. 

COMPANIES ACT

अगर आप इस एक्ट अंतर्गत रजिस्टर्ड कराना चाहते हैं तो इसके लिए आपको मेमोरेंडम एंड आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन एंड रेगुलेशन डॉक्यूमेंट की आवश्यकता रहती है जिसके अंतर्गत आप अपना NGO रजिस्टर्ड कर सकते हैं.इसमें जो लास्ट में जो कंपनी सेक्टर में 3 मेंबर्स की आवश्यकता रहती है.

NGO चलाने के लिए बैंक अकाउंट

NGO चलाने के लिए आपको एक बैंक अकाउंट की जरूरत पड़ती है और यह बैंक अकाउंट आप अपना खुद का बैंक अकाउंट नहीं ऐड कर सकते क्योंकि इसमें आपको जो NGO की तरफ से पैसे आएंगे वह सारे इस बैंक में जमा होंगे.

बैंक अकाउंट मींस आपने जो बना लिया अब इसमें आपका बैंक अकाउंट का भी रोल रहता है  आपको जो फंड मिलेगा वह आपके बैंक अकाउंट में आएगा तो इसके लिए आपको NGO के नाम से जो भी आपका आप का बैंक अकाउंट के लिए आपको पैन कार्ड लगेगा.

आपको रजिस्ट्रेशन भी देना होगा जो आपने रजिस्ट्रेशन कराया है वह रजिस्ट्रेशन एंड अदर डाक्यूमेंट्स जो आपको बैंक अकाउंट खोल पाएंगे तो आपको देना होगा अब यहां पर जो आता है वह कैसे आता है तो फर्स्ट तो आप यहां पर अगर आया है.

NGO में फंड कहां से लाए? 

आपकी अपनी NGO के अंदर फंड लाने के लिए सबसे पहले आपकी NGO को थोड़ा सा काम करना होगा मतलब आपकी NGO समाज कार्य करती दिखाई देनी चाहिए सरकार को आप को इस समाज सेवा का रिपोर्ट दे सकते हैं.

इससे आप सरकार थोड़ी सी आर्थिक मदद कर सकती है इसके साथ-साथ अगर आप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आपकी मदद के कुछ वीडियो या फोटो शेयर कर दे तो उन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जो बड़े-बड़े सेलिब्रिटी होते हैं या जो सोशल मीडिया पर लोग होते हैं उनकी तरफ से भी आपको थोड़े से डोनेशन मिलने लगेंगे और ऐसे ही आपको NGO के लिए फंड मिलता रहेगा.

तो आप गवर्नमेंट से आर्थिक सहायता ले सकते हैं इसके अलावा आप अपनी वेबसाइट बनाते हैं वेबसाइट पर डाल देते हैं तो जो भी डोनेट करना चाहते हैं .

वह डोनेशन देते हैं  वहां से आता है. क्या आपका कोई सोशल मीडिया हैंडल है. आप छोटे-छोटे प्रोग्राम भी रख सकते हैं जिनमें जाकर आप आपकी NGO का सारी मदद कार्य के फोटो और वीडियो लगाकर डोनेशन कलेक्ट कर सकते हैं.

उस सोशल मीडिया हैंडल के थ्रू आप अपनी पब्लिसिटी करके डोनेशन कलेक्ट कर सकते हैं कई बार कई बड़े-बड़े पॉलिटिशन और सेलिब्रिटी डोनेशन देने के लिए आपके सोशल मीडिया हैंडल पर आते हैं. 

 तो वहां पर आपको अपना बैंक अकाउंट की सारी डिटेल्स देनी पड़ती है इसलिए अगर आपकी कोई NGO है तो आपको एक रजिस्टर बैंक अकाउंट की जरूरत पड़ती है. 

 

 

ऐसे ही अगर आपकी NGO थोड़ी थोड़ी सी बढ़ने लगी तो उसके बाद आपको इसे फंड जमा करने की कोई जरूरत नहीं है आपको बड़ी बड़ी कंपनी डायरेक्ट फंड भीगी और सरकार के तरफ से भी आपको कुछ फंड दिया जाएगा.

जिससे आप अपनी NGO को बड़ी आसानी से चला सकते हैं हमारे भारत देश में कुछ सबसे बड़ी NGO उसकी लिस्ट आपको नीचे दिए गए यह भारत की सबसे बड़ी NGO है जो सबसे एक्टिव ली समाज कार्य करती है.

अगर आप एनजीओ के साथ जुड़ना चाहते हैं या एनजीओ के साथ एक मेंबर बन कर काम करना चाहते तो आपको नीचे भारत की कुछ बड़ी और प्रसिद्ध एनजीओ के वेबसाइट के लिंक दिए गए हैं उन लिंक पर जाकर आप उसके मेंबर बनने के लिए उनके वेबसाइट पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं.

अगर आपके बैकग्राउंड और आपके डॉक्यूमेंटेशन पूरे हो जाने के बाद यह इन जो आपके सभी प्रोफाइल को वेरीफाई करने के बाद आप एनजीओ का हिस्सा बन जाओगी और आपकी समाज सेवा का कार्य चालू हो जाएगा.

भारत की कुछ बड़ी प्रसिद्ध NGO

यह भारत की सबसे लोकप्रिय सिद्ध एनजीओ संस्था है कि एनजीओ संस्था ने भारत के अंदर बहुत समाज कार्य किए हैं और इनमें से बहुत सारी संस्थाएं अभी भी कोरोना के इस समय में कार्यरत है अगर आप इन एनजीओ को सपोर्ट करना चाहते तो आप इनकी ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर आप अपने हिसाब से डोनेट कर सकते हैं.

और इनके जो एनजीओ के सभी समाज कार्य इन्होंने किए हैं उन सभी समाज कार्यों का फोटो और वीडियो के स्वरूप में इन्होंने अपनी वेबसाइट पर लगाया है जिससे कि आपको एनी जिओ वेबसाइट पर डोनेट करने के बाद कौन सी वेबसाइट असली है और कौन सी वेबसाइट फेक है.

आप आसानी से पहचान सकते हैं पर अगर आपको यह पहचाना है तो इसके सबसे आसान तरीका यह है कि जो एनजीओ गवर्नमेंट से अप्रूव्ड है यानी उसका रजिस्ट्रेशन गवर्नमेंट ने किया है उस एंड यूके वेबसाइट के बाद में आपको .org यह लिखा होगा इससे आप आसानी से एनजीओ की ऑफिशल वेबसाइट कौन सी है यह देख पाओगे.

अगर आपको और भी ऐसे नए-नए फुल फॉर्म और उस फुल फॉर्म की पूरी जानकारी विस्तार के रूप में चाहिए तो आप हमारे वेबसाइट के और भी ज्यादा पोस्ट पढ़कर अपनी जिज्ञासा को बढ़ावा दे सकते हैं.

Leave a Comment